देश-विदेश

पीएम मोदी को अशोक गहलोत की चिट्ठी- राज्य में हो रही होर्स ट्रेडिंग, इसके भागीदारों को इतिहास माफ नहीं करेगा

नई दिल्ली। राजस्थान में सियासी खींचतान के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक खुला खत लिखा है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इसमें कहा है कि राज्य में उनकी चुनी हुई सरकार को गिराने की कोशिश हो रही है। इस पर प्रधानमंत्री को ध्यान देना चाहिए। क्योंकि ये देश की लोकतांत्रिक व्यवस्था और मर्यादाओं के उलट है। श्री गहलोत ने खुले खत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखा है कि मुझे नहीं पता आपको राजस्थान में जो हो रहा है, उसकी कितनी जानकारी है या फिर आपको गुमराह किया जा रहा है लेकिन इतना है कि ऐसे काम में जो शामिल होगा, उसे इतिहास कभी माफ नहीं करेग।

चुनी हुई सरकार  गिराना लोकतांत्रिक मूल्यों के खिलाफ

श्री गहलोत ने खुले खत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखा है कि आपका ध्यान मैं राज्यों में चुनी हुई सरकारों को होर्स ट्रेंडिंग के माध्यम से गिराने के प्रयासों की ओर दिलाना चाहता हूं। राजस्थान में भी चुनी हुई सरकार को गिराने का प्रयास हो रहा है। इसमें केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और हमारे दल के नेता शामिल हैं। इनमें भंवर लाल शर्मा भी हैं। जिन्होंने भैरो सिंह शेखावत की सरकार को भी गिराने का प्रयास किया था। तब मैंने मुख्य विपक्षी दल के प्रदेश अध्यक्ष के नाते तत्कालीन राज्यपाल और प्रधानमंत्री से मिलकर इस पर विरोध जताया था क्योंकि चुनी हुई सरकार को गिराना लोकतांत्रिक मूल्यों के खिलाफ है।

मध्यप्रदेश में भी लगा था आपकी पार्टी पर आरोप

गहलोत ने लिखा है कि हाल ही में कोरोना संकट के बीच मध्य प्रदेश में भी कांग्रेस सरकार गिराने के आरोप भाजपा पर लगे थे। जिससे आपकी पार्टी की देशभर में बदनामी हुई थी। ऐसे में आपको जानकारी दे रहा हूं। पता नहीं आपको जानकारी है कि आपको गुमराह किया जा रहा है। श्री गहलोत ने ये भी कहा है कि उनकी सरकार कार्यकाल पूरा करेगी, ऐसा उनका विश्वास है।

ऑडियो टेप भी किए जारी

राजस्थान में इन दिनों सियासी खींचतान चल रही है। पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट कांग्रेस से बगावत कर 20 विधायकों को लेकर हरियाणा में हैं। कांग्रेस का कहना है कि वो भाजपा के इशारे पर सब कर रहे हैं। कांग्रेस ने कई भाजपा नेताओं के ऑडियो टेप भी जारी किए हैं, जिसमें वो कथित तौर पर सरकार गिराने की बात कह रहे हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close