देश-विदेश

रिसर्च में खुलासा : कोरोना संक्रमण से ठीक होने वाले कुछ मरीजों को हो रही ये गंभीर बीमारी ….

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के संक्रमण से ठीक होकर घर वापस लौटने वाले कुछ मरीजों को दूसरी समस्या का सामना करना पड़ रहा है। हालिया शोध के अनुसार कोरोनाव वायरस से ठीक होकर घर लौटे मरीजों को पहले तो इस बात का यकीन नहीं हुआ, जब वे डॉक्टर के पास पहुंचे तो उन्होंने भी इसे सामान्य बताया लेकिन जब इस तरह के मरीजों की संख्या में तेजी से वृद्धि होने लगी और यह पाया गया कि इनमें से ज्यादातर मरीज कोरोना वायरस से ठीक होकर घर लौटे हैं, जिसके बाद उन्हें इस समस्या का सामना करना पड़ रहा है। जिस पर शोध किया गया और ये हुआ खुलासा …

एक हालिया शोध के अनुसार आठ में से एक कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज की सुनने की शक्ति कम हो सकती है। यूनिवर्सिटी ऑफ मैनचेस्टर के ऑडियोलॉजिस्ट ने 121 वयस्कों पर अध्ययन किया जिन्हें वीथेनशावे अस्पताल में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण भर्ती कराया गया था।

कोरोना वायरस से घटती है सुनने की क्षमता

अध्ययन के दौरान पता चला कि, 16 लोगों ने कहा कि डिस्चार्ज होने के आठ हफ्तों बाद उनके सुनने की क्षमता बहुत कम हो गई थी। इन 16 लोगों में से आठ लोगों की सुनने की क्षमता बुरी तरह से प्रभावित हुई और आठ लोगों ने टिनीटस की शिकायत की। शोधकर्ताओं ने कहा कि अन्य वायरस जैसे खसरा, कण्ठमाला और मेनिन्जाइटिस से भी सुनने की क्षमता में कमी आती है। बता दें कि ,मनुष्यों को संक्रमित करने वाले अन्य कोरोनावायरस उन महत्वपूर्ण तंत्रिकाओं को नुकसान पहुंचा सकते हैं जो मस्तिष्क और कान के बीच जानकारी का आदान-प्रदान करते हैं।

तंत्रिकाओं को भी होता है नुकसान

रिसर्चर प्रोफेसर केविन मुनरो ने कहा, यह संभव है कि कोविड-19 सुनने की प्रणाली को नुकसान पहुंचाता है, खासकर कान के मध्य भाग को। यह भाग एक ट्यूब की तरह है जो कान के पर्दे से सुनने वाली तंत्रिका और गले तक जाती है। प्रोफेसर केविन मुनरो ने बताया कि, ऑडेटरी न्यूरोपैथी एक श्रवण डिसऑर्डर है। जिसमें कोक्लीअ काम तो करता है लेकिन मस्तिष्क का श्रवण तंत्रिका के साथ संचरण बिगड़ा देता है।

गंभीर दुष्परिणाम कर सकता है पैदा

प्रोफेसर मुनरो ने कहा, जिन लोगों को पहले से कम सुनने की बीमारी है उनके लिए कोविड-19 गंभीर दुष्परिणाम पैदा कर सकता है। इससे ऐसे लोगों में तनाव और घबराहट बढ़ सकती है। इस शोध को इंटरनेशनल जर्नल ऑफ ऑडियोलॉजी में प्रकाशित किया गया है। इस शोध के निष्कर्षों से पता चलता है कि कोविड-19 सुनने की शक्ति को लंबे समय के लिए प्रभावित कर सकता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close