जानें और सीखें

Gold : सोने की कीमत बढ़ने के ये हैं टॉप-10 कारण, यहां जानें और जानकर उठाएं लाभ

नई दिल्ली। सोना (Gold) पुरातन काल से ही लोगों को आकर्षित करता रहा है। यह भारत में लोगों की सबसे प्रिय धातुओं में शुरु से ही शामिल रहा है। एक्सपर्ट अभी तक इस बात का पता नहीं लगा पाएं हैं कि आखिर सोने में ऐसा क्या है कि यह हर दौर में सबसे कीमती धातू और लोगों की पहली पसंद बना रहा। लोग इसे मुसीबत के समय काम आने वाली कीमती धातू तो श्रूंगार करने के लिए महिलाओं की पहली पसंद है तो वहीं यह पुरूषों को भी उतना ही प्रिय है जितना कि महिलाओं को। यह व्यवसाय के लिए भी सबसे उपयुक्त माना जाता है।  कारण इसकी वैल्यू हमेशा बढ़ती रहती है। आइए जानते हैं कि कैसे आप इसमें इनवेस्ट कर बड़ा लाभ कमा सकते हैं और एक सफल उद्यमी बन सकते हैं। आइए इसे ऐसे समझते हैं …

गोल्ड और सिल्वर (सोना और चांदी) का रेट लगातार बढ़ रहा है। गुड रिटनर्स में प्रकाशित खबर के मुताबिक आमलोगों को समझ नहीं आ रहा है, कि यह क्या हो रहा है। स्थिति यह हो गई है कि लोग यह भी नहीं समझ पा रहे हैं कि वह गोल्ड खरीदें या बेच दें। ऐसे में सबसे जरूरी है कि यह जान लिया जाए कि आखिर गोल्ड और चांदी की कीमतें क्यों बढ़ रही हैं। क्योंकि अगर आपको यह समझ आ गया तो आप फिर सोना खरीदने और बेचने का फैसला आसानी से कर सकेंगे।

घरेलू वायदा बाजार में सोने का भाव

गुरुवार को 50,707 रुपये प्रति 10 ग्राम तक उछला, जोकि एक नया रिकॉर्ड है। सोने का भाव 16 मार्च के बाद 32 फीसदी उछला है, जबकि चांदी का भाव 62,400 रुपये प्रति किलो तक उछला, जोकि 13 दिसंबर 2012 के बाद का सबसे ऊंचा स्तर है। जब एमसीएक्स पर चांदी का भाव 63,065 रुपये प्रति किलो तक उछला था। 18 मार्च 2020 को चांदी का भाव एमसीएक्स पर 33,580 रुपये प्रति किलो तक टूटा था, उसके बाद से अब तक चांदी में 85.82 फीसदी की तेजी आई है। चांदी एमसीएक्स पर इससे पहले 25 अप्रैल 2011 में 73,600 रुपये प्रति किलो तक उछला था, जबकि हाजिर बाजार में चांदी का भाव 77,000 रुपये प्रति किलो तक उछला था।

ये है अंतरराष्ट्रीय बाजार में रेट

वहीं अंतर्राष्ट्रीय वायदा बाजार कॉमेक्स पर सोने का भाव गुरुवार को 1,887.80 डॉलर प्रति औंस तक उछला, जोकि सितंबर 2011 के बाद का सबसे उंचा स्तर और रिकॉर्ड स्तर के करीब है। कॉमेक्स पर सोने का भाव छह सितंबर 2011 में 1911.60 डॉलर प्रति औंस तक उछला था जोकि अब तक का रिकॉर्ड स्तर है।

आइये अब जानते हैं सोने और चांदी के रेट बढ़ने की 10 प्रमुख वजहें

 

सोना और चांदी के रेट बढ़ने की पहली वजह

कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते प्रकोप के कारण वैश्विक अर्थव्यवस्था पर मंदी का साया मडरा रहा है जिसके चलते निवेशकों का रुझान सॉफ्ट एसेट्स (शेयर, बांड्स) के बजाय हार्ड एसेट्स (सोना, चांदी या रियलस्टेट्स, कच्चा तेल आदि) की तरफ ज्यादा है। इनमें सोना और चांदी उनकी पहली पसंद है क्योंकि इसे संकट का साथी माना जाता है।

सोना और चांदी के रेट बढ़ने की दूसरी वजह

कोरोना के कहर से मिल रही आर्थिक चुनौतियों से निपटने के लिए विभिन्न देशों में लाए गए राहत पैकेज से सोने और चांदी में निवेशकों की दिलचस्पी बढ़ गई है क्योंकि राहत पैकेज से महंगाई बढ़ने की आशंका बनी रहती है जिसके कारण निवेशकों का झुकाव सुरक्षित निवेश के साधन की तरफ जाता है।

सोना और चांदी के रेट बढ़ने की तीसरी वजह

केंद्रीय बैंकों द्वारा ब्याज दरों में की गई कटौती से बुलियन के प्रति निवेशकों का रुझान बढ़ा है क्योंकि इसमें उनको ज्यादा रिटर्न की उम्मीद है।

सोना और चांदी के रेट बढ़ने की चौथी वजह

कोरोना काल में सोने और चांदी से अब तक निवेशकों को अच्छा रिटर्न मिला है जैसा कि भारत में 16 मार्च के बाद सोन का भाव 32 फीसदी जबकि चांदी में 18 मार्च के बाद 86 फीसदी तेजी आई है।

सोना और चांदी के रेट बढ़ने की पांचवीं वजह

भू-राजनीतिक तनाव से पैदा अनिश्चितता के माहौल में निवेश के सुरक्षित उपकरण के प्रति निवेशकों की दिलचस्पी बढ़ जाती है। मौजूदा हालात में अमेरिका-चीन के बीच बढ़ते तनाव से बुलियन को सपोर्ट मिल रहा है है।

सोना और चांदी के रेट बढ़ने की छठवीं वजह

महंगी धातुओं में तेजी की एक बड़ी वजह डॉलर में आई कमजोरी है। दुनिया की छह प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले डॉलर की ताकत का सूचक डॉलर इंडेक्स में लगातार कमजोरी बनी हुई है जिससे सोने और चांदी में निवेशक मांग बढ़ी है। दरअसल, डॉलर भी निवेश का एक उपकरण है, लेकिन 18 मई को डॉलर इंडेक्स जहां 100.43 पर था वहां अब लुढ़ककर 94.87 पर आ गया है।

सोना और चांदी के रेट बढ़ने की सातवीं वजह

शेयर बाजार में अनिश्चितता का माहौल होने से निवेशकों का रुझान सोने और चांदी की तरफ है।

सोना और चांदी के रेट बढ़ने की आठवीं वजह

मैक्सिको में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते प्रकोप से चांदी की आपूर्ति बाधित होने से इसकी कीमतों में ज्यादा तेजी आई है।

सोना और चांदी के रेट बढ़ने की नौवीं वजह

चांदी की औद्योगिक मांग बढ़ने की संभावनाओं से निवेशकों का रुझान चांदी में ज्यादा है क्योंकि चांदी एक औद्योगिक धातु है और दुनियाभर में लॉकडाउन खुलने के बाद इसकी औद्योगिक मांग बढ़ने की संभावना बनी हुई है।

सोना और चांदी के रेट बढ़ने की दसवीं वजह

सोना महंगा होने की सूरत में आभूषणों के लिए चांदी की मांग बढ़ जाती है। दरअसल, चांदी को गरीबों का सोना कहा जाता है।

सोना और चांदी के रेट पर जानकारों की राय

इंडिया बुलियन ज्वेलर्स एसोसिएशन (आईबीजेए) के नेशनल सेक्रेटरी सुरेंद्र मेहता ने कहा कि सोना और चांदी के भाव का अनुपात मार्च में बढ़कर 125 के ऊपर चला गया था जोकि आमतौर पर 65 के आसपास रहता है, इसलिए उसमें सुधार हो रहा है। उन्होंने कहा कि दिवाली तक चांदी का भाव 70,000 रुपये किलो तक जा सकता है जबकि सोने का भाव 53,000 रुपये प्रति 10 ग्राम तक रह सकता है।

वहीं केडिया एडवायजरी के डायरेक्टर अजय केडिया ने कहा कि कोरोनावायरस संक्रमण के कारण खनन कार्य प्रभावित होने और आपूर्ति बाधित होने से चांदी की कीमतों में ज्यादा तेजी देखी जा रही है और आने वाले दिनों में चांदी में तेजी का रुख बना रहेगा। चांदी का अंतर्राष्ट्रीय वायदा बाजार कॉमेक्स पर 23 डॉलर प्रति औंस के उपर चला गया है जबकि मार्च में चांदी का भाव 12 डॉलर प्रति औंस तक टूटा था। बता दें कि कॉमेक्स पर चांदी का भाव 2011 में 49.52 डॉलर प्रति औंस तक उछला था जोकि रिकॉर्ड स्तर है।

एंजेल ब्रोकिंग के डिप्टी वाइस प्रेसीडेंट अनुज गुप्ता ने कहा कि इस बार मानसून अच्छा है जिससे फसलों की अच्छी पैदावार रहने पर त्योहारी सीजन में ग्रामीण इलाकों में चांदी की मांग जबरदस्त रह सकती है जिससे कीमत 70,000 रुपये प्रति किलो तक जा सकती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close