मेरी रचना

है हिंदी यूं हीन … | news-forum.in

©प्रियंका सौरभ, हिसार, हरियाणा

रिसर्च स्कॉलर इन पोलिटिकल साइंस, कवयित्री, स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तंभकार 


हिंदी दिवस विशेष


 

बोल-तोल बदले सभी, बदली सबकी चाल ।

परभाषा से देश का, हाल हुआ बेहाल ।।

 

जल में रहकर ज्यों सदा, प्यासी रहती मीन ।

होकर भाषा राज की, है हिंदी यूं हीन ।।

 

अपनी भाषा साधना, गूढ ज्ञान का सार ।

खुद की भाषा से बने, निराकार, साकार ।।

 

हो जाते हैं हल सभी, यक्ष प्रश्न तब मीत ।

निज भाषा से जब जुड़े, जागे अन्तस प्रीत ।।

 

अपनी भाषा से करें, अपने यूं आघात ।

हिंदी के उत्थान की, इंग्लिश में हो बात ।।

 

हिंदी माँ का रूप है, ममता की पहचान ।

हिंदी ने पैदा किये, तुलसी ओ” रसखान ।।

 

मन से चाहे हम अगर, भारत का उत्थान ।

परभाषा को त्यागकर, बांटे हिंदी ज्ञान ।।

 

भाषा के बिन देश का, होता कब उत्थान ।

बात पते की जो कही, समझे वही सुजान ।।

 

जिनकी भाषा है नहीं, उनका रुके विकास ।

परभाषा से होत है, हाथों-हाथ विनाश ।।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close