देश-विदेश

खादी आम लोगों की पहुंच से हुई दूर, बेहद महंगे मास्क बेचने पर मोदी सरकार निशाने पर …

नई दिल्ली। कोरोना महामारी आपदा को अवसर में बदलने की घोषणा नरेंद्र मोदी सरकार ने की थी। जिसके बाद प्रधानमंत्री छोटे से लेकर बड़े मीडिया और सोशल मीडिया में छाए रहे। इन सबके बीच एक चौंकाने वाली खबर सामने आई है। खास बात ये है कि कभी आमजन की पहुंच में रहने वाली खादी को अब नरेंद्र मोदी सरकार ने आम और गरीब आदमी की पहुंच से बहुत दूर करते हुए इसे अब खास बना दिया है। खादी से बनाए मास्क पर गांधी जी का चरखा तो है पर वे स्वयं गायब हो गए हैं। जिस पर सवाल उठना तो लाजमी है।

कोरोना से बचने के लिए मास्क सभी की जरूरत बन चुका है। घर से बाहर निकलने वाले हर व्यक्ति को मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया गया है। कोरोना से बचने को मास्क ज़रूरी बताया गया तो तरह-तरह के मास्क बाज़ार में आने लगे। इस दौरान देशभर के गांधी आश्रम ने मेक इन इण्डिया नारे के साथ खादी का मास्क तैयार कर दिया। खादी का बना यह मास्क एन-95 मास्क का तोड़ बताया जा रहा है। सरकार ने इस मास्क की जमकर ब्रांडिंग की और लोगों को इसे खरीदने को कहा।

खास बात ये है कि ये खादी के मास्क इतने महंगे हैं कि इन्हें आम आदमी शायद ही अफोर्ड कर पाए। तीन मास्क का सेट एक हजार रूपये का उपलब्ध है यानि कि एक मास्क की कीमत 333 रुपये होगी। मास्क के डिब्बे पर चरखा तो बदस्तूर कायम है लेकिन गांधी जी को रिप्लेस कर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को लगा दिया गया है। गांधी आश्रम के प्रोडक्ट से गांधी जी क्यों गायब किये गए यह सवाल उठना तो लाजमी है. सवाल यह है कि क्या गांधी आश्रम से भी गांधी जी की विदाई की शुरुआत हो गई है। अब लोगों ने मास्क की बेहद ज्यादा कीमतों और खादी से गांधी के आउट होने पर सवाल उठाना शुरू कर दिये हैं। लोग कह रहे हैं कि मोदी सरकार ने कोरोना जैसी आपदा को वाकई में कमाई के अवसर में बदल दिया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close