छत्तीसगढ़

मानिकचौरी फिटर में बिजली की आंखमिचौली : परेशान ग्रामीणों ने गोबरी सरपंच व कोकड़ी सरपंच के नेतृत्व में सौंपा ज्ञापन, दी आंदोलन की चेतावनी | news-forum.in

मस्तूरी |  मानिकचौरी फिटर में पिछले चार माह से बिजली की आंखमिचौली की समस्या से ग्रामीणों को रूबरू होना पड़ रहा है। इससे न केवल लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है बल्कि जान-माल का खतरा भी बना रहता है। बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई पर भी असर पड़ रहा है। बारिश का मौसम होने के कारण जहरीले सांप, बिच्छू व अन्य जानवरों के काटने का अंदेशा रहता है। क्षेत्र में अंधेरा पसरे रहने पर यह भय दोगुना हो जाता है। वहीं पीने के पानी की समस्या से भी लोगों को दो-चार होना पड़ रहा है। जिससे परेशान होकर गोबरी सरपंच दीपक बंजारे व कोकड़ी सरपंच हेतराम डांडे के नेतृत्व में ग्रामीणों ने विद्युत सब-स्टेशन पचपेड़ी को मांगों का ज्ञापन सौंप शीघ्र व्यवस्था सुधार करने की मांग की है। व्यवस्था सुधार नहीं होने की स्थिति में ग्रामीणों ने उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है।

 

 

पीने के साफ पानी के लिए परेशानी

बता दें क्षेत्र में विगत चार माह से बिजली की आंखमिचौली से लोग खासे परेशान हैं। खासकर ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली गुल होने की समस्या लोगों के लिए मुसीबत का सबब बन रही है। बिजली गुल रहने से लोगों को समय पर पीने का पानी नहीं मिल पाता। बिजली आने पर नलों पर अत्याधिक भीड़ रहती है जिससे सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन भी ठीक ढंग से नहीं हो पा रहा है। इससे संक्रमण बढ़ने का खतरा अंदेशा बना रहता है।

 

व्यवसाय पर पड़ रहा असर

क्षेत्र में आए दिन बिजली गुल रहने से व्यापार-व्यवसाय पर भी असर पड़ा है। खासकर बिजली उपकरण सुधार करने वाले व फोटो कॉपी की दुकान चलाने वाले लोगों को रोजी-रोटी का संकट हो रहा है। व्यवसाय के समय बिजली गुल हो जाने से व्यापार पर बट्‌टा लग रहा है। वहीं बिजली के आने-जाने से इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के खराब होने का अंदेशा भी बना रहता है।

 

जहरीले जीव-जंतुओं का खतरा

ग्रामीण क्षेत्र होने के कारण यहां पर्याप्त सुविधाएं पहुंच नहीं पाई हैं। बारिश होने के साथ ही खेतों, नदी-नालों से जहरीले सांप-बिच्छू के काटने व दूसरे जानवरों के हमला करने का भय हमेशा बना रहता है। यहां आए दिन जहरीले सांप निकलते रहते हैं। जिससे लोगों को जान-माल का खतरा हमेशा बना रहता है। अंधेरा पसरा रहने के कारण ग्रामीण जहरीले सांप पर पैर पड़ जाने के डर से सिहर उठते हैं।

 

ऑनलाइन पढ़ाई पर असर

कोरोना संक्रमण काल होने के कारण देशभर में शिक्षा व्यवस्था चरमारा गई है। स्कूल-कॉलेज व अन्य शैक्षणिक संस्थान पूरी तरह से बंद हैं। जिससे निबटने सरकार ऑनलाइन शिक्षा को बढ़ावा दे रही है। बिजली कटौती होने से मोबाइल ठीक ढंग से चार्ज नहीं हो पाते, जिससे स्कूली बच्चे शासन द्वारा चलाई जा रही ऑनलाइन पढ़ाई का लाभ लेने वंचित हो रहे हैं। शिक्षा से वंचित होने के कारण उनके भविष्य पर असर पड़ रहा है।

 

चार माह से बिजली की आंखमिचौली

ब्लॉक के विद्युत वितरण विभाग पचपेड़ी के ग्राम मानिकचौरी फिटर में आने वाले ग्राम कोकड़ी, गोबरी में पिछले चार माह से बिजली की की आंखमिचौली से ग्रामीणों को दो-चार होना पड़ रहा है। पिछले चार माह से समस्या से जूझ रहे ग्रामीणों को निस्तारी व पीने का पानी भी नहीं मिल पा रहा है। जिसकी  वजह से कोसों दूर जाकर दूसरे मोहल्ले जाकर पानी लाने मजबूर होना पड़ता है।

 

बिजली विभाग में नहीं उठाते फोन

आए दिन बिजली गुल होने की समस्या से परेशान होकर ग्रामीण व जनप्रतिनिधियों द्वारा बिजली विभाग के दफ्तर फोन किया जाता है। फोन की पूरी घंटी जाने के बाद भी जिम्मेदार द्वारा फोन रिसीव नहीं किया जाता। जिससे ग्रामीणों में विभाग के प्रति रोष है।

 

उग्र आंदोलन की चेतावनी

हरदी (गोबरी) सरपंच दीपक बंजारे व कोकड़ी सरपंच हेतराम डांडे के नेतृत्व में बिजली विभाग को सौंपे ज्ञापन में ग्रामीणों ने समस्या के जल्द निराकरण की मांग की है। जिससे वे भयमुक्त होकर जीवन यापन कर सकें। ज्ञापन के माध्यम से ग्रामीणों ने समस्या का जल्द निराकरण नहीं होने की स्थिति में उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है।

 

©मस्तूरी से राम गोपाल भार्गव की रपट


सरपंच के नेतृत्व में ग्रामीणों द्वारा सौंपा गया ज्ञापन देखें यहां

👇👇👇👇👇👇👇👇

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close