छत्तीसगढ़

वनवासी और वन्यप्राणियों को भोजन उपलब्ध कराने कोरबा वन क्षेत्रों मे 55 हजार सीडबॉल का रोपण

कोरबा ।  वनवासी और वन्यप्राणियों को आसानी से भोजन उपलब्ध कराने के उद्देश्य से कोरबा वनक्षेत्रों में बीज बुवाई का कार्यक्रम आयेजित किया गया। वन और वनेत्तर क्षेत्रों में वृहद स्तर पर फलदार और सब्जी बीजो का रोपण और सीडबॉल का छिड़काव किया गया। कोरबा वनमंडल में 55 हजार सीडबॉल का रोपण किया गया। इसके साथ ही 15 सौ किलोग्राम फलदार पौधे एवं 200 किलोग्राम सब्जी बीजों का भी छिडकाव किया गया। वृहद स्तर पर बीजों के छिड़काव और बीज रोपण से वन और वन के आसपास रहने वाले वनवासियों तथा वन्यप्राणियों को भोजन का लाभ मिल सकेगा। राज्य शासन के निर्देशानुसार जिले के वनक्षेत्रों में इस कार्यक्रम को आयोजित किया गया।

कोरबा वन मंडलाधिकारी एन गुरुनाथन ने बताया कि कोरबा वनमंडल के अंतर्गत आने वाले वन और वनेत्तर क्षेत्रों में विभिन्न प्रकार के फल और सब्जी बीजों का छिड़काव किया गया। वन क्षेत्रों में बेर, जामुन, सीताफल, करौंदा, लौकी, बरबट्टी, भिंडी, बैंगन, मुनगा आदि बीजों की बुवाई और छिड़काव किया गया। उन्होंने बताया कि फल और सब्जी बीजो का सीडबॉल बनाकर वृहद क्षेत्रों में रोपण किया गया है। फलदार और सीडबॉल तैयार करने के लिये अच्छे गुणवत्ता के बीज वन एवं ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित वन प्रबंधन समितियों के द्वारा एकत्रित किया गया। बीज बुवाई कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए वन प्रबंधन समिति के सदस्यों, क्षेत्रों के जनप्रतिनिधियों, क्षेत्रीय अधिकारी कर्मचारियों शामिल रहे।

कोरबा वनमंडलाधिकारी ने बताया कि सब्जी एवं फल बीजो का छिड़काव का उद्देश्य वन क्षेत्रों में वन्य प्राणियों और आसपास रहने वाले वनवासियों के लिये भोजन की उपलब्धता सुनिश्चित कराना है। भोजन उपलब्ध हो जाने से वन्यप्राणियों का उनके प्राकृतिक रहवास से उनका पलायन रोका जा सकता है। वन क्षेत्रों में फलदार वृक्षों को बढ़ावा मिलेगा और ग्रामीण क्षेत्रों में फलों की उपलब्धता होगी। साथ ही साथ वन क्षेत्रों में फलदार पौधे के रोपण से खुली वन भूमि का भी उचित उपयोग हो सकेगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close