छत्तीसगढ़

गुना के दलित किसान परिवार को पुलिस ने लात-जूतों से पीटा, दोषियों पर हो एससी-एसटी एक्ट के तहत कार्रवाई : छत्तीसगढ़ एससी-एसटी-ओबीसी संयुक्त मोर्चा

रायपुर। मध्यप्रदेश के गुना जिले में दलित समाज के किसान परिवार के साथ पुलिस प्रशासन द्वारा बर्बरता पूर्वक लाठीचार्ज की घटना को अंजाम दिया गया। घटना गुना के कैंट थाना क्षेत्र में एक दलित किसान दंपत्ति पर बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों द्वारा इस तरह बर्बरता पूर्ण लाठीचार्ज और लात-जूते से पिटाई कर खेत में घसीटा गया। घटना के विरोध में छत्तीसगढ़ एससी-एसटी-ओबीसी संयुक्त मोर्चा द्वारा रायपुर में बाबा साहब डॉ. आंबेडकर की प्रतिमा के समक्ष घटना के विरोध में प्रदर्शन किया गया।

किसान दंपति से पुलिस ने की जमकर मारपीट, MP में बवाल, गुना के DM और SP हटाए गए

बता दें कि गुना में पीड़ित राजकुमार अहिरवार का परिवार जिस ज़मीन पर कई पुश्तों से खेती कर रहा था उस ज़मीन का उसके पास पट्टा नहीं था, SDM उस ज़मीन को ख़ाली कराने पहुंचे और खड़ी फ़सल पर JCB चलवा दी, परिवार ने विरोध किया तो पूरे परिवार की पुलिस ने लात-जूते से पिटाई कर दी। 4 लाख रुपए का क़र्ज़ लेकर खेती कर रहे राजकुमार अहिरवार और उसकी पत्नी ने अपनी फ़सल बर्बाद होते देखकर ज़हर खा लिया।

संयुक्त मोर्चा के संयोजक एडवोकेट राम कृष्ण जांगड़े ने कहा कि पीड़ित परिवार को उचित मुआवजा और संबंधित पुलिस के अधिकारियों और प्रशासनिक अधिकारियों के खिलाफ एससी-एसटी एक्ट के तहत अपराध पंजीबद्ध किया जाए। संयुक्त मोर्चा द्वारा राष्ट्रपति के नाम रायपुर कलेक्टर को 17 जुलाई 2020 को ज्ञापन सौंपेंगे। प्रदर्शन में बड़ी संख्या में सामाजिक कार्यकर्ताओं की उपस्थिति रही।

संविधान निर्माता डॉ. आंबेडकर की प्रतिमा के पास हुए विरोध-प्रदर्शन में प्रमुख रूप से रामकृष्ण जांगड़े, गोविंद देवा भोगल, दुर्गेश तंगिल, महेंद्र वर्मा, अग्निशदेव, संजीव, एके रामटेके, हेमंत जोशी, रेखा गोंडाने, जितेंद्र सोनकर, रतन गोंडाने, अशोक कुमार भारती, दिनेश, अंजू मेश्राम, रघुनंदन, अजय कुमार, तीरथ राज भारती,राम सनेही जांगड़े, बेदराम डेहरिया व डॉक्टर हामिद उल्ला खान सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

 

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close