छत्तीसगढ़

गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में रायगढ़ का नाम दर्ज, 6 घंटे में 14 लाख फेस मास्क बांटकर रिकॉर्ड किया अपने नाम

रायगढ़ । कोविड-19 (कोरोना महामारी) के नियंत्रण की दिशा में देश का सबसे बड़ा जागरुकता अभियान 3 अगस्त को गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हो गया। छत्तीसगढ़ के जिला रायगढ़ में पुलिस के आह्वान पर मास्क वितरण को महाअभियान का रूप देते हुए जिले के नागरिक, सामाजिक-व्यावसायिक व राजनैतिक संगठनों ने 6 घंटे में साढ़े 14 लाख मास्क बांटकर जागरूकता अभियान को गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड दर्ज कराया।

12.37 लाख फेस मास्क बांटे

रायगढ़ पुलिस के मास्क महाअभियान की सफलता जिलेवासियों के सहयोग से संभव हो सका। रक्षासूत्र मास्क जागरूकता महाअभियान में पुलिस ने 12.37 लाख फेस मास्क बांटे। साथ ही विभिन्न संस्थाओं ने भी करीब ढाई लाख मास्क का वितरण किया। महाअभियान को सफल बनाने लगभग 8 हजार वालिंटियर और 400 संस्थाएं जिला पुलिस के साथ सक्रिय रूप से जुड़कर डोर-टू-डोर से लेकर बाजार और खेत-खलिहान तक पहुंचकर मास्क का वितरण किया। विश्व रिकॉर्ड के लिए जिस तयशुदा समय का निर्धारण पुलिस अधीक्षक की ओर से किया गया था, उसी छह घंटे के समय में जिले में इस ऐतिहासिक अभियान को अंजाम दिया और महामारी के संकटकाल में सामूहिक व सामाजिक एकजुटता की नई मिसाल कायम की।

गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज

जिला पुलिस का रक्षासूत्र मास्क महाअभियान सफलता के साथ गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हो गया। एसपी संतोष सिंह ने बताया कि कई अन्य रिकॉर्ड एजेंसियां भी जिले के इस महाअभियान की निगरानी कर रही है। संभवत: कुछ अन्य रिकॉर्ड बुक में भी इस अभियान को स्थान मिल सकता है। पुलिस ने रक्षाबंधन के दिन कोरोना के इस समय बहनों को प्रेरित किया कि वे राखी के साथ रक्षासूत्र के रूप में मास्क भाइयों को दें और भाई गिफ्ट के रूप में मास्क बहन को गिफ्ट दें। साथ ही सभी लोग एक-दूसरे को मास्क दें। अभियान में 7-8 लाख मास्क बाँटने थे लेकिन अंतिम दिन तक 12.37 लाख मास्क प्राप्त होने पर उसे भी वितरित किया गया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close