छत्तीसगढ़

राजनांदगांव : नदी के बीच चट्टान में 13 घंटों से फंसा है बच्चा, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी | news-forum.in

राजनांदगांव | खैरागढ़ के गंडई इलाके में एक 10 वर्षीय मासूम नहाने गया था, जो नर्मदा नदी के बीच चट्टान में फंस गया है। बच्चे को निकालने पिछले 13 घंटे से रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है, लेकिन अभी तक बच्चे को बाहर नहीं निकाला गया है। ग्रामीणों ने नर्मदा एनीकट के गेट में रेत से भरी बोरियों को रखकर बहाव को कम किया, जिसके बाद रेस्क्यू टीम के लोग चट्टान तक पहुंचे। स्थानीय स्तर पर प्रशासनिक टीम नदी के बीच चट्टान में फंसे बच्चे को सुरक्षित बाहर निकालने ऑपरेशन चला रही है। नर्मदा एनीकट का गेट बंद कर बहाव को कम किया गया है। वहीं ड्रील मशीन के जरिये चट्टान को तोड़ने का प्रयास जारी है। पिछले सात घंटे से फंसे बच्चे को बाहर निकालने जिला प्रशासन की टीम को भी सूचना दे दी गई है, लेकिन विडंबना है कि सात घंटे के बाद भी जिले की रेस्क्यू टीम नहीं पहुंची है।

 

दोस्तों के साथ गया था नदी

दरअसल, गंडई से लगे रैमड़वा गांव में नर्मदा से बहने वाली नदी में ठंढार का दस वर्षीय अनिल अपने दोस्तों के साथ मछली पकड़ने गया था। मछली पकड़ने के बाद दोस्तों के साथ अनिल ने नदी में छलांग लगाई। इसी बीच अनिल नहाते हुए नदी के बीच चट्टान में पहुंच गया। चट्टान से अनिल दोस्तों के साथ छलांग लगाकर नहा रहा था, तभी अचानक चट्टान में अनिल का पैर फंस गया। कई कोशिशों के बाद भी पैर बाहर निकला।

 

 

पुलिस और प्रशासनिक टीम गांव पहुंची

अनिल के साथ गए उनके दोस्तों ने गांव पहुंचकर परिजनों और ग्रामीणों को इसकी जानकारी दी। नदी में पानी का तेज बहाव देख परिजन सकते में आ गए। ग्रामीणों ने पुलिस को सूचना देकर मदद की गुहार लगाई, जिसके बाद एक घंटे के भीतर पुलिस और प्रशासनिक टीम गांव पहुंची। साथ ही रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया। जिला स्तर की टीम को भी इसकी जानकारी दी गई, लेकिन करीब सात घंटे के बाद भी गोताखोर और जिला स्तर की टीम गांव नहीं पहुंची। इसको लेकर ग्रामीणों में जमकर आक्रोश है।

 

एनीकट के गेट बंद कर बहाव किया कम

ग्रामीणों ने नर्मदा एनीकट के गेट में रेत से भरी बोरियों को रखकर बहाव को कम किया, जिसके बाद रेस्क्यू टीम के लोग चट्टान तक पहुंचे। आटोमैटिक ड्रील मशीन के जरिये चट्टान को तोड़ने का प्रयास देर रात तक जारी रहा। तब तक बच्चा पैर फंसने के कारण दर्द से चीख रहा था। उसे रेस्क्यू की टीम ने खाद्य सामग्री भी दी। इधर प्रशासनिक स्तर पर नदी के किनारों को लाइट की व्यवस्था कराई गई, ताकि रेस्क्यू ऑपरेशन जारी रहे। जेसीबी मशीन की भी मदद ली गई।

 

तहसीलदार समेत जनप्रतिनिधि मौके पर

इस दौरान तहसीलदार प्रफुल्ल गुप्ता, गंडई थाना प्रभारी सुषमा सिंह, कांग्रेस नेता दिलीप ओगरे सहित प्रशासनिक टीम और ग्रामीण बड़ी संख्या में मौजूद रहे। स्वास्थ्य विभाग की टीम भी मौके पर पहुंची है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close