देश-विदेश

कंगना रनौत से केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने की मुलाकात, कहा- ‘मुआवजा चाहती हैं बॉलीवुड एक्ट्रेँस रनावत’ | news-forum।in

मुंबई |  राज्‍यसभा और केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले (Ramdas Athawale) ने गुरुवार को कंगना के साथ मुंबई में मुलाकात की और कहा कि एक्‍टर कंगना रनौत (Kangana Ranaut), जिनके मुंबई की प्रापर्टी को कथित तौर पर अवैध निर्माण को लेकर बृहनमुंबई म्‍युनिसिपल कार्पोरेशन (BMC) ने तोड़फोड़ का शिकार बनाया, अपमानित महसूस कर रहीं हैं और वे मुआवजा चाहती है।

 

एनडीए में शामिल आरपीआई (ए) नेता अठावले ने इस मौके पर कंगना को अपनी पार्टी का समर्थन दोहराया। कंगना से मुलाकात के बाद अठावले ने संवाददाताओं से चर्चा के दौरान कहा, ‘एक्‍टर कंगना रनौत से मिला, करीब एक घंटे तक बातचीत हुई। मैंने उनसे कहा कि उन्‍हें मुंबई में डरने की जरूरत नहीं है। मुंबई भारत की आर्थिक राजधानी है और हर किसी को यहां रहने का हक है। मेरी पार्टी (RPI) उनके साथ है।’

 

अपमानित महसूस कर रहीं

केंद्रीय राज्य मंत्री श्री अठावले ने इसके साथ ही कहा, ‘उन्‍होंने (कंगना ने) मुझे कहा कि वे अपमानित महसूस कर रहीं हैं। ऑफिस जो उन्‍होंने जनवरी में बनवाया था, को नुकसान पहुंचाया गया। उन्‍होंने कहा कि उसे बिल्‍डर द्वारा दो-तीन इंच के अतिरिक्‍त निर्माण के बारे में पता नहीं है, बीएमसी को उस हिस्‍से को तोड़ देना था लेकिन उन्‍होंने अंदर की दीवार और फर्नीचर को नुकसान पहुंचाया। उन्‍होंने इसे खिलाफ कोर्ट की शरण ली है और इसका मुआवजा चाहती हैं।’ गौरतलब है कि बुलडोजर का इस्‍तेमाल करके बीएमसी की टीम ने कथित तौर पर नगरीय निकाय की इजाजत के बगैर किए गए बदलाव (Alteration)को तोड़ दिया था। मुंई की मेयर किशोरी पेडणेकर ने एनडीटीवी को बताया था कि वे (कंगना) 24 घंटे के अंदर जरूरी कागजात पेश करने में नाकाम रही थीं।

 

अपने बयानों को लेकर विवादों में

गौरतलब है कि कंगना मुंबई और यहां की पुलिस पर अपने बयानों को लेकर विवादों (controversy)में हैं। इस मुद्दे पर वे शिवसेना के निशाने पर हैं। शिवसेना नेता संजय राउत (Shiv Sena MP Sanjay Raut) द्वारा इस बयानों के बाद कंगना को मुंबई में न आने की ‘सलाह’ दी थी, इस पर कंगना ने मुंबई की तुलना पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) से की थी। शिवसेना के नियंत्रण वाली BMC ने बुधवार सुबह कंगना के बांद्रा स्थित बंगले पर ‘अवैध निर्माण’ को गिराने की कार्रवाई शुरू की थी। हालांकि इसके कुछ ही देर बाद हाईकोर्ट से कंगना को राहत मिल गई थी और बीएमसी की कार्रवाई पर रोक लगा दी गई थी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close